सत्राजित  

सत्राजित हिन्दू मान्यताओं और पौराणिक महाकाव्य महाभारत के उल्लेखानुसार सत्यभामा के पिता तथा एक यादव थे। सत्यभामा श्रीकृष्ण की पटरानियों में से एक थीं। सत्राजित ने सूर्य की तपस्या कर स्यमंतक मणि प्राप्त की थी, जिसकी चोरी इसने श्रीकृष्ण को लगायी थी।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=सत्राजित&oldid=547464" से लिया गया