सनातन (ब्रह्मा पुत्र)  

Disamb2.jpg सनातन एक बहुविकल्पी शब्द है अन्य अर्थों के लिए देखें:- सनातन (बहुविकल्पी)

सनातन ब्रह्मा के चार मानस पुत्रों में से एक पुत्र का नाम था, जिन्हें सनातन भी कहते हैं।

  • सनक, सनन्दन, सनत्कुमार और सनातन ये ब्रह्मा के चार मानस पुत्र हैं, जिनकी अवस्था शंकर जी से भी अधिक कही गयी है।
  • इनके मुख में निरंतर 'श्रीहरि: शरणम' मंत्र रहता है। इनकी अवस्था सदा 5 पाँच वर्ष के शिशु की सी रहती है।
  • नारदपुराण का पूरा पूर्वभाग इनके ही द्वारा नारद को उपदिष्ट है।[1]
  • सनातन ने नारद जी को भगवत्त्व का उपदेश दिया था। इन्होंने संख्यायन को श्रीमद्भागवत पढ़ाया था।


पौराणिक कोश |लेखक: राणा प्रसाद शर्मा |प्रकाशक: ज्ञानमण्डल लिमिटेड, वाराणसी |संकलन: भारत डिस्कवरी पुस्तकालय |पृष्ठ संख्या: 510-511 |

  1. छान्दोग्योपनिषद 7|1|1-26; महाभारत शांति पर्व 227, 286; महाभारत अनुशासन पर्व 165-169 कुम्भ को.

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=सनातन_(ब्रह्मा_पुत्र)&oldid=551640" से लिया गया