सप्तसागर व्रत  

  • भारत में धार्मिक व्रतों का सर्वव्यापी प्रचार रहा है। यह हिन्दू धर्म ग्रंथों में उल्लिखित हिन्दू धर्म का एक व्रत संस्कार है।
  • यह व्रत चैत्र शुक्ल पक्ष प्रतिपदा से प्रारम्भ करना चाहिए।
  • क्रम से सुप्रभा, कांचनाक्षा, विशाला, माननोदभावना, मेघनादा, सुवेणु एवं विमलोदका की पूजा करना चाहिए, उनके नाम पर दही से होम करना चाहिए।
  • ब्राह्मणों को दही से युक्त भोज कराना चाहिए। यह व्रत एक वर्ष तक करना चाहिए।
  • किसी तीर्थस्थान पर किसी ब्राह्मण को सात वस्त्रों का दान देना चाहिए।
  • इसे सारस्वत व्रत भी कहा जाता है।[1]
  • उपर्युक्त सरस्वती नदी की संज्ञाएँ या उसकी सात सहायक नदियों के नाम हैं, अत: 'सारस्वत' नाम अधिक उपयुक्त लगता है।[2]


टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. हेमाद्रि (व्रतखण्ड 2, 507, विष्णुधर्मोत्तरपुराण से उद्धरण)।
  2. विष्णुधर्मोत्तरपुराण (3|164|17)।

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=सप्तसागर_व्रत&oldid=252285" से लिया गया