सरस्वतीपूजा विधि  

  • भारत में धार्मिक व्रतों का सर्वव्यापी प्रचार रहा है। यह हिन्दू धर्म ग्रंथों में उल्लिखित हिन्दू धर्म का एक व्रत संस्कार है।
  • आश्विन शुक्ल पक्ष में मूल नक्षत्र] पर सरस्वती का आवाहन, प्रतिदिन पूजा और श्रवण (जो मूल से चौथा नक्षत्र है) पर विसर्जन कुल किया जाता है।
  • चार दिनों तक सामान्यत: आश्विन शुक्ल पक्ष की सप्तमी से दशमी तक सरस्वतीपूजाविधि की जाती है।
  • व्रतराज[1]; वर्षकृत्यदीपक [2], दोनों ग्रन्थों में ऐसा आया है कि इन दिनों अध्ययन, अध्यापन एवं पुस्तक लेखन वर्जित है।


टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. व्रतराज 248-249
  2. वर्षकृत्यदीपक 93 एवं 268-269

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=सरस्वतीपूजा_विधि&oldid=188769" से लिया गया