सायण  

  • वेदों के सर्वमान्य भाष्यकर्ता सायण दक्षिण भारत के निवासी थे।
  • वे महान् राजनीतिज्ञ भी थे।
  • इनका समय चौदहवीं शताब्दी माना जाता है।
  • पहले ये विजयनगर राज्य के मंत्री थे।
  • बाद में सन्न्यास ले लिया और श्रृंगेरी मठ के अधिष्ठाता बन गए।
  • अपने जीवन के पच्चीस वर्षों में ये वेदों के भाष्य करते रहे।
  • सायण से पहले किसी ने भी समस्त वेद ग्रन्थ राशि का इतना सुविचारित भाष्य नहीं किया था।
  • इनके भाष्य में वैदिक विधि-विधानों का भी स्पष्टीकरण है और उनके आध्यात्मिक अर्थ का भी।
  • लोग यह मानते हैं कि वेदों के विषय दुर्ग के रहस्य को खोलने के लिए सायण-भाष्य सचमुच चाबी का काम करता है।
  • सायण की मृत्यु 1387 ई. में हुई।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=सायण&oldid=603635" से लिया गया