सिद्धिविनायक व्रत  

  • भारत में धार्मिक व्रतों का सर्वव्यापी प्रचार रहा है। यह हिन्दू धर्म ग्रंथों में उल्लिखित हिन्दू धर्म का एक व्रत संस्कार है।
  • यह व्रत शुक्ल पक्ष की चतुर्थी पर या जब श्राद्ध एवं भक्ति से प्रेरित कोई हर्षपूर्ण जागरण हो तो गणेश जी के लिए किया जाता है। *इस व्रत में तिलयुक्त जल से स्नान करना चाहिए।
  • गणेश की हिरण्य या रजत की प्रतिमा की पूजा करनी चाहिए।
  • पंचामृत से प्रतिमा का स्नान करना चाहिए।
  • गंध, पुष्पों, धूप, दीपों एवं नैवेद्य का अर्पण करना चाहिए।
  • 21 मोदक प्रतिमा के समक्ष रखे जाते हैं, एक गणेश के लिए, 10 पुजारी तथा 10 कर्ता के लिए।
  • विद्या, धन एवं युद्ध में सिद्धि (सफलता) की प्राप्ति होती है।[1]

 

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. हेमाद्रि (व्रतखण्ड 1, 525-529, स्कन्दपुराण से उद्धरण); स्मुतिकौस्तुभ (210-216); पुरुषार्थचिन्तामणि (95); व्रतराज (143-151)।

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=सिद्धिविनायक_व्रत&oldid=141960" से लिया गया