सुन्ना  

सुन्ना एक अरबी भाषा का शब्द है, जिसका सामान्यत: अर्थ है- 'प्रथागत व्यवहार'। यह मुस्लिम समुदाय के पारम्परिक सामाजिक और क़ानूनी रिवाजों और व्यवहार का संग्रह है। पूर्व-इस्लामी अरब में 'सुन्ना' से आशय आदिवासी पूर्वजों द्वारा स्थापित परम्पराओं से था, जिन्हें मानक रूप में स्वीकार किया गया था और जिनका पूरे समुदाय द्वारा पालन किया गया था।

मत भिन्नता

प्रारम्भ में मुस्लिम इस बात पर तत्काल एकमत नहीं थे, कि उनका सुन्ना क्या हो। कुछ लोग मदीना का अनुसरण करते थे, तो कुछ पैग़म्बर मुहम्मद के साथियों के आचरण का, जबकि इराक, सीरिया और हेजाज़ (अरब) में आठवीं सदी में प्रचलित क्षेत्रीय मतों ने सुन्ना की तुलना एक आदर्श व्यवस्था से करने का प्रयत्न किया, जो अंशत: उनके अपने क्षेत्रों में पारम्परिक थी और अंशत: उन मिसालों पर आधारित थी, जो उन्होंने स्वयं विकसित की थीं। इन विविध स्रोतों को, जिन्होंने विविध सामुदायिक व्यवहारों को जन्म दिया, अन्तिम रूप से आठवीं सदी के उत्तरार्ध में क़ानून के विद्वान अश्-शफ़ीई (767-820) ने समेकित किया। उन्होंने पैग़म्बर मुहम्मद के सुन्ना को, जो प्रत्यक्षदर्शियों की बातों, क्रियाकलापों और अनुमोदनों में सुरक्षित थे और हदीस के नाम से जाने जाते थे, मानक और क़ानूनी रूप दिया। यह क़ुरान के बाद सबसे महत्त्वपूर्ण संहिता है।

प्रयोग

जब मुस्लिम विद्वानों ने विभिन्न सैद्धान्तिक, क़ानूनी और राजनीतिक मतों के समर्थकों द्वारा हदीस के सम्पूर्ण पुनर्निर्माण को देखते हुए 'इल्म अल-हदीस', व्यक्तिगत प्रथाओं की प्रामाणिकता को परखने की कसौटी का विकास किया, तब सुन्ना की आधिकारिक ताक़त और भी प्रभावी हुई। सुन्ना का इसके बाद तफ़सीर, क़ुरानी व्याख्याओं में पाठ के अर्थ को पूर्ण करने के लिए और इस्लामी विधिशास्त्र फ़िक़्ह में उन न्यायिक निर्णयों के आधार के रूप में इस्तेमाल किया गया, जिनकी चर्चा क़ुरान में नहीं की गई।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=सुन्ना&oldid=592741" से लिया गया