सुमति (पु.)  

Disamb2.jpg सुमति एक बहुविकल्पी शब्द है अन्य अर्थों के लिए देखें:- सुमति (बहुविकल्पी)
  1. सावर्णि मंवंतर के एक ऋषि का नाम।
  2. भरत का पुत्र[1]
  3. जनमेजय का एक पुत्र[2]
  4. सूत का एक शिष्य-[3]
  5. एक दैत्य का नाम।
  6. सोमदत्त का पुत्र।
  7. वर्त्तमान अवसर्पिणी के पाँचवें अर्हत।
  8. पुरुवंशोत्पन्न राजा सुपार्श्र्व का पुत्र तथा सन्नतिमान का पिता[4]
  9. अंतिनार के पुत्र तथा ऋतेषु के पौत्र। ये तीन भाई थे[5]
  10. एक दिव्य महर्षि। भीष्म के शरशय्या पर लेटे रहने के समय, युधिष्ठिर द्वारा शंकासमाधान करवाते समय ये भी उपस्थित थे।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. महाभारत
  2. देखें:-जनमेजय
  3. देखें-सूत
  4. विष्णुपुराण.4.19.49
  5. विष्णुपुराण.4-19,3-4

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=सुमति_(पु.)&oldid=515947" से लिया गया