सुरूप द्वादशी  

  • भारत में धार्मिक व्रतों का सर्वव्यापी प्रचार रहा है। यह हिन्दू धर्म ग्रंथों में उल्लिखित हिन्दू धर्म का एक व्रत संस्कार है।
  • पौष कृष्ण पक्ष की द्वादशी पर जब कि पुष्य नक्षत्र हो करना चाहिए।
  • एकादशी को उपवास करना चाहिए।
  • द्वादशी को एक पूर्ण घट में, जिसके ऊपर एक पात्र में तिल रखा गया हो, हरि की स्वर्णिम या रजत प्रतिमा का पूजन करना चाहिए।
  • तिलयुक्त भोजन का नैवेद्य चढ़ाना चाहिए।
  • पुरुषसूक्त[1] के मंत्रों के साथ अग्नि में तिल की आहुतियाँ देनी चाहिए।
  • उस रात्रि जागरण करना चाहिए।
  • घर एवं प्रतिमा का दान करना चाहिए।
  • कुरूपता से छुटकारा मिलता है।[2]
  • शिव ने इसे उमा को बताया और कहा कि सत्यभामा ने इससे लाभ उठाया।
  • व्रतार्क[3] ने इसे गुर्जरों में प्रचलित माना है।

 

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. पुरुषसूक्त (ऋग्वेद 10|90
  2. हेमाद्रि (व्रतखण्ड 1, 1205-1213
  3. व्रतार्क (पाण्डुलिपि, 247अ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=सुरूप_द्वादशी&oldid=355519" से लिया गया