सूर्यनक्त व्रत  

  • भारत में धार्मिक व्रतों का सर्वव्यापी प्रचार रहा है। यह हिन्दू धर्म ग्रंथों में उल्लिखित हिन्दू धर्म का एक व्रत संस्कार है।
  • यह वारव्रत है।
  • इस व्रत में सूर्य देवता की पूजा करनी चाहिए।
  • इसमें रविवार को नक्तविधि का प्रयोग करना चाहिए।
  • जब हस्त नक्षत्र हो तो उस रविवार को एकभक्त तथा उसके उपरान्त प्रत्येक रविवार को नक्त रहना चाहिए।
  • सूर्यास्तकाल पर 12 दलों वाले एक कमल का चित्र लाल चन्दन से खींचना और पूर्व से आरम्भ कर आठ दिशाओं में विभिन्न नामों (यथा– सूर्य, दिवाकर) का न्यास करना चाहिए।
  • कमल के बीजकोष के पूर्व में सूर्य के घोड़ों का न्यास करना चाहिए।
  • ऋग्वेद एवं सामवेद के प्रथम मंत्रों एवं तैत्तिरीय संहिता के प्रथम चार मंत्रों के साथ अर्ध्य देना चाहिए।
  • एक वर्ष तक करना चाहिए।
  • कर्ता रोगमुक्त हो जाता है, सन्तति एवं धन की उपलब्धि करता है तथा सूर्यलोक जाता है।[1]


टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. हेमाद्रि (व्रतखण्ड 2, 538-541, मत्स्यपुराण से उद्धरण

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=सूर्यनक्त_व्रत&oldid=189449" से लिया गया