सौभाग्यसुन्दरी  

  • भारत में धार्मिक व्रतों का सर्वव्यापी प्रचार रहा है। यह हिन्दू धर्म ग्रंथों में उल्लिखित हिन्दू धर्म का एक व्रत संस्कार है।
  • मार्गशीर्ष या माघ कृष्ण पक्ष की तृतीया पर सौभाग्यसुन्दरी व्रत किया जाता है।
  • सौभाग्यसुन्दरी तिथिव्रत है।
  • सौभाग्यसुन्दरी व्रत के देवी उमा हैं।
  • उस दिन उपवास; एक वर्ष तक करना चाहिए।
  • प्रत्येक मास में उमा के विभिन्न नाम से पूजा करनी चाहिए।
  • पुष्प, फल, नैवेद्य तथा कर्ता द्वारा खाये जाने वाले सामान आदि का अर्पण किया जाता है।[1]
  • व्रतराज[2] में इसका सम्पादन चतुर्थी से युक्त तृतीया को हो सकता है किन्तु द्वितीया से युक्त तृतीया को नहीं।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. व्रतार्क (पाण्डुलिपि 56अ-60ब
  2. व्रतराज 114-120, भविष्योत्तरपुराण से उद्धरण

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=सौभाग्यसुन्दरी&oldid=189462" से लिया गया