सौरत्रिविक्रम व्रत  

  • भारत में धार्मिक व्रतों का सर्वव्यापी प्रचार रहा है। यह हिन्दू धर्म ग्रंथों में उल्लिखित हिन्दू धर्म का एक व्रत संस्कार है।
  • सौरत्रिविक्रम व्रत मासव्रत है।
  • सौरत्रिविक्रम व्रत के देवता सूर्य हैं।
  • सौरत्रिविक्रम व्रत तीन मासों या तीन वर्षों तक किया जाता है।
  • कार्तिक में जगन्नाथ या सूर्य की पूजा की जाती है।
  • सौरत्रिविक्रम व्रत एकभक्त होकर तथा एक ब्राह्मण को रात्रिकाल का भोजन दान देना चाहिए।
  • यही विधि मार्गशीर्ष एवं पौष में सूर्य की पूजा विभाकर एवं दिवाकर के रूप में की जाती है।
  • युवावस्था तथा मध्यावस्था में किये गये पाप तथा यहाँ तक की महापाप भी कट जाते हैं।
  • इसे 'त्रिविक्रम' इसलिए कहा जाता है कि सूर्य के तीन नाम व्यक्ति को तीन मासों या तीन वर्षों में मुक्ति देते हैं।[1]


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. हेमाद्रि (व्रत खण्ड 2, 853, भविष्योत्तरपुराण से उद्धरण

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=सौरत्रिविक्रम_व्रत&oldid=189270" से लिया गया