स्वाहा देवी  

  • ब्राह्मणों और क्षत्रियों के यज्ञों की हवि देवताओं तक नहीं पहुंचती थी, अत: वे सब ब्रह्मा के पास गये।
  • ब्रह्मा उनके साथ श्री कृष्ण की शरण में पहुंचे।
  • कृष्ण ने उन्हें प्रकृति की पूजा करने के लिए कहा। प्रकृति की कला ने प्रकट होकर उनसे वर मांगने को कहा।
  • उन्होंने वर स्वरूप सदैव हवि प्राप्त करते रहने की इच्छा प्रकट की।
  • उसने देवताओं को हवि मिलने के लिए आश्वस्त किया।
  • वह स्वयं कृष्ण की आराधिका थी।
  • प्रकृति की उस कला से कृष्ण ने कहा कि वह अग्नि की पत्नी स्वाहा होगी।
  • उसी के माध्यम से देवता तृप्त हो जायेंगे।
  • अग्नि ने वहां उपस्थित होकर उसका पाणिग्रहण किया।[1]

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. भागवत, 9।43

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=स्वाहा_देवी&oldid=141992" से लिया गया