हिडिम्ब  

भीम और हिडिम्ब
  • 'महाभारत' में हिडिम्ब नामक एक राक्षस का उल्लेख मिलता है, जो अपनी बहन हिडिंबा के साथ वन में रहा करता था। उसकी बहन हिडिंबा काली माता की भक्त थी और उसे प्रतिदिन चढा़वे के रूप मे एक मनुष्य की बलि माता को देनी होती थी।
  • एक दिन हिडिंब बहन के लिए मानव बलि हेतु वनवासरत पांडवों में से एक भीम को पकड़ लाया। हिडिंबा भीम को देख उस पर मोहित हो गई और भीम से बोली कि वह अपने भाई हिडिंब से उसे बचा कर कहीं दूर स्थान पर भेज देगी। जब बहुत समय होने पर भी हिडिंबा मानव बलि के लिए भीम को लेकर नहीं आई, तो हिडिंब अपनी बहन के पास पहुँचा और भीम के साथ विहार करती हिडिंबा को मारने के लिए दौडा़। इस पर भीम ने उसे ललकारा और उसका वध कर दिया।
  • भीम ने हिडिम्ब का वध करने के बाद हिडिम्बा से विवाह किया और उनके घटोत्कच नाम का पराक्रमी पुत्र हुआ जो कि महाभारत के युद्ध में अर्जुन की रक्षा में मारा गया।



संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=हिडिम्ब&oldid=553416" से लिया गया