देवनागरी वर्णमाला  

देवनागरी वर्णमाला के समस्त वर्णों को व्याकरण में दो भागों में विभक्त किया गया है- स्वर और व्यंजन

वर्णमाला

वर्णमाला के स्वर
स्वर अ, आ, इ, ई, उ, ऊ, ऋ, ए, ऐ, ओ, औ
अनुस्वार अं
विसर्ग- अ:
वर्णमाला के व्यंजन
कण्ठय क, ख, ग, घ, ङ
तालव्य च, छ, ज, झ, ञ
मूर्धन्य ट, ठ, ड, ढ, ण, ड़, ढ़
दन्त्य त, थ, द, ध, न
ओष्ठय प, फ, ब, भ, म
अन्तःस्थ य, र, ल, व
सिबिलैंट श, ष, स
महाप्राण ह (जैसे- ख, ध, भ)
गृहीत ज़, फ़, ऑ
संयुक्त व्यंजन क्ष, त्र, ज्ञ, श्र

स्वर

  • जिन वर्णों का उच्चारण करते समय साँस, कंठ, तालु आदि स्थानों से बिना रुके हुए निकलती है, उन्हें 'स्वर' कहा जाता है।

व्यंजन

  • जिन वर्णों का उच्चारण करते समय साँस कंठ, तालु आदि स्थानों से रुककर निकलती है, उन्हें 'व्यंजन' कहा जाता है।
  • प्राय: व्यंजनों का उच्चारण स्वर की सहायता से किया जाता है।

विडियो

विडियो की सहायता से हिन्दी सीखें[1]


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका-टिप्पणी और संदर्भ

  1. साभार- यू-ट्यूब और Edx Hindi

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=देवनागरी_वर्णमाला&oldid=577567" से लिया गया