अंधक संघ  

गोविन्द राम (वार्ता | योगदान) द्वारा परिवर्तित 15:58, 8 अप्रॅल 2012 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)

अंधक संघ महाभारतकालीन एक गणराज्य जिसकी स्थिति यमुना तट पर थी।

'मतंगवाप्यां य: स्नानादेकरात्रेण सिद्धयति, विगाहति ह्यनालंबमंधकं वै सनातनम्'।
'यादवा: कुकुरा भोजा: सर्वे चांधकवृष्णय:, त्वय्यासक्ता: महाबाहो लोका लोकेश्वराश्च ये।'
  • कृष्ण को इस प्रसंग में संघमुख्य भी कहा गया है-

'भेदाद् विनाश: संघानां संघ मुख्योसिकेशव[2] जिससे सूचित होता है कि अंधक तथा वृष्णि गणराज्य थे।

इन्हें भी देखें: अंधक एवं अंधक (दैत्य)

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. महाभारत शांति पर्व 81, 29
  2. (महाभारत शांति पर्व 81,25)

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=अंधक_संघ&oldid=268443" से लिया गया