}

"अमरकोष" के अवतरणों में अंतर  

[अनिरीक्षित अवतरण][अनिरीक्षित अवतरण]
('*अमरकोष प्रथम शती विक्रमी के महान विद्वान अमरसिंह ...' के साथ नया पन्ना बनाया)
 
पंक्ति 1: पंक्ति 1:
 
*अमरकोष प्रथम शती विक्रमी के महान विद्वान [[अमरसिंह]] का प्रसिद्ध कोशग्रंथ है।  
 
*अमरकोष प्रथम शती विक्रमी के महान विद्वान [[अमरसिंह]] का प्रसिद्ध कोशग्रंथ है।  
*इसका मूल नाम ''नामलिंगानुशासन'' है।  
+
*इसका मूल नाम नामलिंगानुशासन है।  
 
*अमरकोष अत्यंत मान्य और लोकप्रिय ग्रंथ रहा है।  
 
*अमरकोष अत्यंत मान्य और लोकप्रिय ग्रंथ रहा है।  
 
*अमरकोष में उपनिषद के विषय में कहा गया है- [[उपनिषद]] शब्द [[धर्म]] के गूढ़ रहस्यों को जानने के लिए प्रयुक्त होता है।
 
*अमरकोष में उपनिषद के विषय में कहा गया है- [[उपनिषद]] शब्द [[धर्म]] के गूढ़ रहस्यों को जानने के लिए प्रयुक्त होता है।

14:34, 29 जनवरी 2011 का अवतरण

  • अमरकोष प्रथम शती विक्रमी के महान विद्वान अमरसिंह का प्रसिद्ध कोशग्रंथ है।
  • इसका मूल नाम नामलिंगानुशासन है।
  • अमरकोष अत्यंत मान्य और लोकप्रिय ग्रंथ रहा है।
  • अमरकोष में उपनिषद के विषय में कहा गया है- उपनिषद शब्द धर्म के गूढ़ रहस्यों को जानने के लिए प्रयुक्त होता है।
"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=अमरकोष&oldid=112518" से लिया गया