अस्सकेनोई गण  

व्यवस्थापन (वार्ता | योगदान) द्वारा परिवर्तित 19:40, 30 जून 2017 का अवतरण (Text replacement - " महान " to " महान् ")

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)

  • अस्सकेनोई गण भारत पर सिकन्दर महान् के आक्रमण के समय मलकंद दर्रे के निकट स्वात घाटी के एक हिस्से में रहता था।
  • उसके पास एक बड़ी सेना थी और मस्सग दुर्ग उनकी राजधानी थी।
  • यह दुर्ग प्राकृतिक दृष्टि से दुर्भेद्य था और उसकी रक्षा के लिए एक ऊँची प्राचीर और गहरी परिखा का निर्माण किया गया था।
  • अस्सकेनोई लोगों ने सिकन्दर से जमकर लोहा लिया और उनके एक तीर से सिकन्दर घायल भी हो गया।
  • लेकिन अन्त में विजय सिकन्दर की ही हुई।
  • उसने मस्सग दुर्ग पर अधिकार कर लिया और भंयकर नरसंहार के बाद अस्सकेनोई लोगों का दमन कर दिया।
  • संस्कृत में इस गण का नाम आश्वकायन अथवा अश्वक है।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=अस्सकेनोई_गण&oldid=598303" से लिया गया