आर्जव  

नवनीत कुमार (वार्ता | योगदान) द्वारा परिवर्तित 12:25, 20 मार्च 2016 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)

Disamb2.jpg आर्जव एक बहुविकल्पी शब्द है अन्य अर्थों के लिए देखें:- आर्जव (बहुविकल्पी)


शब्द संदर्भ
हिन्दी गुण/भाव, ॠजुता, टेढ़ा न होना, सीधापन, सिधाई, सुगमता, सरलता, स्पष्टवादिता, ईमानदारी, कुटिलता का अभाव, (व्यवहार की) सरलता, ॠजु होने की अवस्था।
-व्याकरण    पुल्लिंग
-उदाहरण   बालक के समान मन का होना ही आर्जव धर्म हैं, किसी से कपट न करना या मन की सरलता को आर्जव कहते हैं।
-विशेष   
-विलोम   
-पर्यायवाची    1- सं सद्-व्यवहार, अच्छा बरताव, भद्रता, भलाई, सद्निर्वाह

2-समव्यवहार, बराबरी, समचरण, समता, समाचरण, समान व्यवहार करना
3-नम्र व्यवहार, कोमलता, ढीलापन, नम्रता, नय, नरमाई, नर्मी, विनम्रता, विनय, सहृदयता, साम, स्निग्धता।
4- क्रि सद्-व्यवहार करना, अच्छा बरतना, निबाहना, भलाई करना
5- समव्यवहार करना, एक नज़र से देखना, बराबर समझना, समान व्यवहार करना
6- वि सद्-व्यवहारी, अच्छा [अच्छी], भद्र, भला [भली], सद्-व्यवहार कर्ता
7- समव्यवहारी, समचर, समचेता, समदर्शी, समलोष्टकांचन, समशील
8-नम्र व्यवहारी, कोमल, ढीला [ढीली], नम्र, नरम, नर्म, विनम्र, विनयी, शिथिल

संस्कृत आर्जवम् [ॠजु+अणु] सरलता, स्पष्टवादिता, सद्वर्ताव, खरापन, ईमानदारी, निष्कपटता, उदारहृदय होना- अहिंसा क्षान्तिरार्जवं- [1], क्षेत्रमार्जवस्य-[2]-सादगी, विनम्रता।
अन्य ग्रंथ
संबंधित शब्द
संबंधित लेख

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. भगवद्-गीता 13/7
  2. कादम्बरी 45

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=आर्जव&oldid=549643" से लिया गया