कोलिहा नृत्य  

रविन्द्र प्रसाद (वार्ता | योगदान) द्वारा परिवर्तित 18:38, 2 मई 2014 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)

कोलिहा नृत्य भीलों का प्रसिद्ध नृत्य है, जो बुंदेलखण्ड के कुछ भागों में प्रचलित है। मुख्य रूप से कोल भीलों में इस नृत्य का प्रचलन है।[1]

  • कोलिहा नृत्य में ढोलक, नगड़िया और कसरु आदि वाद्य प्रधानता से बजाए जाते हैं।
  • किसी जाति विशेष या समुदाय विशेष को मनोरंजन प्रदान करना भीलों का जातिगत कर्तव्य है, जो भले ही आज के बदले हुये जमाने और सामाजिक व्यवस्था में दोषपूर्ण नजर आता हो, परन्तु उसका प्रारम्भ सामुदायिक भावना से ही हुआ है।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. आदिवासियों के लोक नृत्य (हिन्दी)। । अभिगमन तिथि: 02 मई, 2014।

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=कोलिहा_नृत्य&oldid=489921" से लिया गया