खोल  

गोविन्द राम (वार्ता | योगदान) द्वारा परिवर्तित 13:17, 30 अगस्त 2014 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)

खोल बांगर जलोढ़ से निर्मित उन उच्च भूमियों के मध्यवर्ती ढालों को कहा जाता है, जो अपने उच्चावच में 15 से 30 मीटर सापेक्षिक भिन्नता के कारण दूर से ही स्पष्ट होते हैं।

  • गंगा-यमुना नदियों के दोआब क्षेत्र में पुरानी बांगर जलोढ़ मिट्टी से चैरस उच्च भूमियों का निर्माण हुआ है, जो नवीन जलोढ़ से निर्मित खादर भूमियों से भिन्न है।
  • यमुना नदी के ढालों के साथ खेलों के ढालों के औसत उच्चावच में 5 से 6 मीटर तथा गंगा के साथ वाले खोलों के औसत उच्चावच में 12 से 20 मीटर तक का अन्तर मिलता है।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=खोल&oldid=502443" से लिया गया