चकरी नृत्य  

व्यवस्थापन (वार्ता | योगदान) द्वारा परिवर्तित 19:24, 2 सितम्बर 2013 का अवतरण (Text replace - "लायक " to "लायक़ ")

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)

चकरी नृत्य राजस्थान राज्य के लोक नृत्यों में से एक है। यह नृत्य हाड़ौती अंचल (कोटा, बारां और बूंदी) की कंजर जाति की युवतियों द्वारा विभिन्न अवसरों पर किया जाता है। इस नृत्य में युवतियाँ बड़ा-सा घाघरा पहनती हैं, जो बहुत ही आकर्षक सजावट वाला होता है।

  • यह नृत्य विशेष रूप से विवाह के आयोजन पर किया जाता है।
  • चकरी नृत्य करने वाली नर्तकी जब चक्कर पर चक्कर घूमती हुई नाचती है तो उसके घाघरे का लहराव देखने लायक़ होता है।
  • लगभग पूरे नृत्य में युवतियाँ लट्टू की तरह घूर्णन करती हुई नाचती हैं। इसी कारण इस नृत्य को 'चकरी नृत्य' कहा जाता है।
  • इस नृत्य में ढफ, मंजीरा तथा नगाड़े वाद्य का प्रयोग ख़ास तौर पर होता है।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=चकरी_नृत्य&oldid=370851" से लिया गया