चो  

रविन्द्र प्रसाद (वार्ता | योगदान) द्वारा परिवर्तित 12:31, 23 अक्टूबर 2011 का अवतरण (''''चो''' का तात्पर्य नदियों के जल से है। *[[शिवालिक पहाड़...' के साथ नया पन्ना बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)

चो का तात्पर्य नदियों के जल से है।

  • शिवालिक पहाड़ियों से जुड़े मैदान में नदियाँ प्रवाहित होती हैं।
  • ये नदियाँ मैदान के उत्तरी भाग में स्थित हैं।
  • इनमें प्रवाहित होने वाले जल को ही 'चो' कहा जाता है।

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=चो&oldid=229227" से लिया गया