तक्षकर्म कला  

व्यवस्थापन (वार्ता | योगदान) द्वारा परिवर्तित 15:51, 13 अक्टूबर 2011 का अवतरण (Text replace - "कला" to " कला ")

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)

जयमंगल के मतानुसार चौंसठ कलाओं में से यह एक कला है। तक्षकर्म कला लकड़ी, धातु आदि को अभष्टि विभिन्न आकारों में काटना है।

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=तक्षकर्म_कला&oldid=225753" से लिया गया