तैत्तिरीयोपनिषद ब्रह्मानन्दवल्ली अनुवाक-5  

व्यवस्थापन (वार्ता | योगदान) द्वारा परिवर्तित 13:16, 7 नवम्बर 2017 का अवतरण (Text replacement - "अर्थात " to "अर्थात् ")

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)

  • इस अनुवाक में शरीर के 'विज्ञानमय कोश' का वर्णन है।
  • विज्ञान के द्वारा ही यज्ञों और कर्मों की वृद्धि होती है।
  • समस्त देवगण विज्ञान को ब्रह्म-रूप में मानकर उसकी उपासना करते हैं।
  • विज्ञानमय शरीर में 'आत्मा' ही ब्रह्म-रूप है।
  • 'प्रेम' उस विज्ञानमय शरीर का सिर है, 'आमोद' दाहिना पंख है, 'प्रमोद' बायां पंख है, 'आनन्द' मध्य भाग है और 'ब्रह्म' ही उसकी पूंछ, अर्थात् आधार है।
  • उसे जानने वाला समस्त पापों से मुक्त हो जाता है।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध



टीका टिप्पणी और संदर्भ

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

तैत्तिरीयोपनिषद ब्रह्मानन्दवल्ली

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः