तोरण  

रविन्द्र प्रसाद (वार्ता | योगदान) द्वारा परिवर्तित 14:43, 12 मई 2012 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)

Disamb2.jpg तोरण एक बहुविकल्पी शब्द है अन्य अर्थों के लिए देखें:- तोरण (बहुविकल्पी)
शब्द संदर्भ
हिन्दी किसी नगर या दुर्ग या विशाल भवन का बाहरी फाटक, प्रमुख द्वार, बन्दनवार, ऐसी वास्तु-रचना जिसका ऊपरी भाग अर्धगोलाकार और बेलबूटेवाला हो, मेहराब, उक्त फाटक के आकार-प्रकार की कोई अस्थायी रचना जो प्रायः शोभा सजावट आदि के लिए की जाती है, वे मालाएँ आदि जो सजावट के लिए खंभों और दीवारों आदि में बाँधकर लटकाई जाती है।
-व्याकरण    पुल्लिंग
-उदाहरण   दीपावली के त्योहार पर हर घर में दरवाज़ों पर तोरण (बन्दनवार) लगाई जाती है।
-विशेष   
-विलोम   
-पर्यायवाची    झंडी, वंदन माला, नांदीक, स्वागत द्वार।
संस्कृत तुर्+ल्युट्
अन्य ग्रंथ
संबंधित शब्द
संबंधित लेख

अन्य शब्दों के अर्थ के लिए देखें शब्द संदर्भ कोश

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=तोरण&oldid=274492" से लिया गया