तोल्काप्पियम  

गोविन्द राम (वार्ता | योगदान) द्वारा परिवर्तित 17:00, 2 जुलाई 2011 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)

  • तोल्काप्पियम 'द्वितीय संगम' का एक मात्र शेष ग्रंथ है।
  • अगस्त्य ऋषि के बारह योग्य शिष्यों में से एक 'तोल्काप्पियर' द्वारा यह ग्रंथ लिखा गया था।
  • सूत्र शैली में रचा गया यह ग्रंथ तमिल भाषा का प्राचीनतम व्याकरण ग्रंथ है।
  • संगमकालीन इस ग्रंथ में आठों प्रकार के विवाहों का उल्लेख मिलता है।
  • इस ग्रंथ में प्रेम विवाह को 'पंचतिणै', एक पक्षीय प्रेम को 'कैक्किणै' एवं अनुचित प्रेम को 'पेरुन्दिणै' कहा गया है।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=तोल्काप्पियम&oldid=177760" से लिया गया