"धनबाद" के अवतरणों में अंतर  

[अनिरीक्षित अवतरण][अनिरीक्षित अवतरण]
(शिक्षण संस्थान)
 
(3 सदस्यों द्वारा किये गये बीच के 10 अवतरण नहीं दर्शाए गए)
पंक्ति 6: पंक्ति 6:
 
}}
 
}}
  
धनबाद [[भारत]] के [[झारखंड]] में स्थित एक शहर है जो कोयले की ख़ानों के लिए पूरे देश में मशहूर है। यह औद्योगिक, सामाजिक, सांस्कृतिक व वाणिज्यिक क्षेत्र में अग्रणी है। झारखंड में स्थित इस शहर को कोयला राजधानी नाम से भी जाना जाता है। यह [[भारत]] के उन चुनिंदा शहरों में से है जिसकी आबादी पूरी गति से बढ़ रही है।
+
'''धनबाद''' [[भारत]] के [[झारखंड]] में स्थित एक शहर है, जो [[कोयला|कोयले]] की ख़ानों के लिए पूरे देश में मशहूर है। यह औद्योगिक, सामाजिक, सांस्कृतिक व वाणिज्यिक क्षेत्र में अग्रणी है। झारखंड में स्थित इस शहर को 'कोयला राजधानी' नाम से भी जाना जाता है। धनबाद को 'काले हीरे का नगर' के रूप में भी जाना जाता है। यह [[भारत]] के उन चुनिंदा शहरों में से है, जिसकी आबादी पूरी गति से बढ़ रही है।
[[चित्र:Coal-Mine-Dhanbad-Jharkhand.jpg|thumb|250px|[[कोयला|कोयले]] की खान, धनबाद<br />Coa Mine, Dhanbad]]
+
[[चित्र:Coal-Mine-Dhanbad-Jharkhand.jpg|thumb|250px|[[कोयला|कोयले]] की खान, धनबाद<br />Coal Mine, Dhanbad]]
==पौराणिक महत्व==
+
==पौराणिक महत्त्व==
हिंदू [[पुराण|पुराणों]] में [[देवता|देवताओं]] के चिकित्सक, दंतकथाओं के अनुसार देवताओं और असुरों ने क्षीर सागर के [[समुद्र मंथन|मंथन]] से निकले अमृत की आकांक्षा की थी और समुद्र से अमृत का कलश ले कर धन्वंतरि निकले थे। पारंपरिक हिंदू औषधि की महत्त्वपूर्ण पद्धति आयुर्वेद का श्रेय भी [[धन्वंतरि]] को जाता है। धन्वंतरि के नाम पर ही इस शहर का नाम धनबाद पड़ा। इस नाम का उपयोग अन्य अर्ध्द पौराणिक और ऐतिहासिक वैद्यों तथा एक पौराणिक राजा के लिये भी किया जाता है।
+
[[हिन्दू]] [[पुराण|पुराणों]] में [[देवता|देवताओं]] के चिकित्सक, दंतकथाओं के अनुसार देवताओं और [[असुर|असुरों]] ने [[क्षीर सागर]] के [[समुद्र मंथन|मंथन]] से निकले अमृत की आकांक्षा की थी और [[समुद्र]] से अमृत का [[कलश]] ले कर [[धन्वंतरि]] निकले थे। पारंपरिक हिन्दू औषधि की महत्त्वपूर्ण पद्धति [[आयुर्वेद]] का श्रेय भी [[धन्वंतरि]] को जाता है। धन्वंतरि के नाम पर ही इस शहर का नाम '''धनबाद''' पड़ा। इस नाम का उपयोग अन्य अर्ध्द पौराणिक और ऐतिहासिक वैद्यों तथा एक पौराणिक राजा के लिये भी किया जाता है।
 
==यातायात व परिवहन==
 
==यातायात व परिवहन==
 
सड़क व रेल मार्ग के लिए धनबाद झारखंड में अपना विशेष स्थान बना चुका है वहीं वायुमार्ग के दृष्टिकोण से बरवाअड्डा इकाई पट्टी के विस्तारीकरण का काम तेजी से चल रहा है।   
 
सड़क व रेल मार्ग के लिए धनबाद झारखंड में अपना विशेष स्थान बना चुका है वहीं वायुमार्ग के दृष्टिकोण से बरवाअड्डा इकाई पट्टी के विस्तारीकरण का काम तेजी से चल रहा है।   
पंक्ति 21: पंक्ति 21:
 
==पर्यटन==
 
==पर्यटन==
 
{{main|धनबाद पर्यटन}}
 
{{main|धनबाद पर्यटन}}
पर्यटन के लिहाज़ से भी यहाँ की खदानें काफी महत्वपूर्ण है। देश विदेश से बड़ी संख्या में लोग इन खदानों को देखने आते है। इसके अलावा यहाँ एक भव्य [[दुर्गा]] मन्दिर है जो दीयपुर दलमी के नाम से जाना जाता है।  
+
पर्यटन के लिहाज़ से भी यहाँ की खदानें काफ़ी महत्त्वपूर्ण है। देश विदेश से बड़ी संख्या में लोग इन खदानों को देखने आते हैं। इसके अलावा यहाँ एक भव्य [[दुर्गा]] मन्दिर है जो 'दीयपुर दलमी' के नाम से जाना जाता है।  
  
 +
{{प्रचार}}
 
{{लेख प्रगति
 
{{लेख प्रगति
 
|आधार=
 
|आधार=
पंक्ति 31: पंक्ति 32:
 
}}
 
}}
 
==संबंधित लेख==
 
==संबंधित लेख==
 +
{{झारखण्ड के नगर}}
 
{{झारखण्ड के पर्यटन स्थल}}
 
{{झारखण्ड के पर्यटन स्थल}}
 
[[Category:झारखण्ड]][[Category:झारखण्ड_के_नगर]] [[Category:भारत के नगर]][[Category:पर्यटन कोश]]
 
[[Category:झारखण्ड]][[Category:झारखण्ड_के_नगर]] [[Category:भारत के नगर]][[Category:पर्यटन कोश]]
 
__INDEX__
 
__INDEX__
 
__NOTOC__
 
__NOTOC__

10:58, 3 दिसम्बर 2012 के समय का अवतरण

धनबाद धनबाद पर्यटन धनबाद ज़िला

धनबाद भारत के झारखंड में स्थित एक शहर है, जो कोयले की ख़ानों के लिए पूरे देश में मशहूर है। यह औद्योगिक, सामाजिक, सांस्कृतिक व वाणिज्यिक क्षेत्र में अग्रणी है। झारखंड में स्थित इस शहर को 'कोयला राजधानी' नाम से भी जाना जाता है। धनबाद को 'काले हीरे का नगर' के रूप में भी जाना जाता है। यह भारत के उन चुनिंदा शहरों में से है, जिसकी आबादी पूरी गति से बढ़ रही है।

कोयले की खान, धनबाद
Coal Mine, Dhanbad

पौराणिक महत्त्व

हिन्दू पुराणों में देवताओं के चिकित्सक, दंतकथाओं के अनुसार देवताओं और असुरों ने क्षीर सागर के मंथन से निकले अमृत की आकांक्षा की थी और समुद्र से अमृत का कलश ले कर धन्वंतरि निकले थे। पारंपरिक हिन्दू औषधि की महत्त्वपूर्ण पद्धति आयुर्वेद का श्रेय भी धन्वंतरि को जाता है। धन्वंतरि के नाम पर ही इस शहर का नाम धनबाद पड़ा। इस नाम का उपयोग अन्य अर्ध्द पौराणिक और ऐतिहासिक वैद्यों तथा एक पौराणिक राजा के लिये भी किया जाता है।

यातायात व परिवहन

सड़क व रेल मार्ग के लिए धनबाद झारखंड में अपना विशेष स्थान बना चुका है वहीं वायुमार्ग के दृष्टिकोण से बरवाअड्डा इकाई पट्टी के विस्तारीकरण का काम तेजी से चल रहा है।

शिक्षण संस्थान

शैक्षणिक संस्थानों में इस शहर को पूरे देश में गौरव प्राप्त है। जिसमें कुछ मुख्य संस्थान इस प्रकार है-

  • इंडियन स्कूल ऑफ़ माइंस यूनिवर्सिटी- आई.एस.एम.यू
  • बिहार इंस्ट्रीट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी
  • बी.आई.टी सिदंरी
  • सेंट्रल इंस्ट्रीट्यूट फ़ॉर माइनिंग एण्ड फ्युअल रिसर्च (सी.आई.एम.एफ.आर)

पर्यटन

पर्यटन के लिहाज़ से भी यहाँ की खदानें काफ़ी महत्त्वपूर्ण है। देश विदेश से बड़ी संख्या में लोग इन खदानों को देखने आते हैं। इसके अलावा यहाँ एक भव्य दुर्गा मन्दिर है जो 'दीयपुर दलमी' के नाम से जाना जाता है।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

संबंधित लेख

"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=धनबाद&oldid=305149" से लिया गया