पानकरस-रागासव-योजन कला  

व्यवस्थापन (वार्ता | योगदान) द्वारा परिवर्तित 15:51, 13 अक्टूबर 2011 का अवतरण (Text replace - "कला" to " कला ")

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)

जयमंगल के मतानुसार चौंसठ कलाओं में से यह एक कला है। विविध प्रकार के शर्बत, आसव आदि बनाना, जो कि पेयजल के रूप में प्रयुक्त होते हैं।

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=पानकरस-रागासव-योजन_कला&oldid=225781" से लिया गया