एक्स्प्रेशन त्रुटि: अनपेक्षित उद्गार चिन्ह "२"।

पूर्वा फाल्गुनी नक्षत्र

भारत डिस्कवरी प्रस्तुति
व्यवस्थापन (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 07:28, 27 जुलाई 2012 का अवतरण (Text replace - "{{लेख प्रगति |आधार=आधार1 |प्रारम्भिक= |माध्यमिक= |पूर्णता= |शोध= }}" to "{{लेख प्रगति |आधार= |प्रारम्भि�)
(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ:भ्रमण, खोजें

पूर्वा फाल्गुनी नक्षत्र 11वाँ नक्षत्र है। यह सूर्य की सिंह की राशि में आता है।

अर्थ - पहले वाला लाल नक्षत्र
देव - भग (धन व ऐश्वर्य का देवता)

  • इसके चारों चरण सिंह में मो टी ट नाम अक्षर से चरणानुसार आते हैं।
  • नक्षत्र स्वामी शुक से इसकी मित्रता नहीं है।
  • सूर्य का अग्नितत्व प्रधान है तो शुक्र कला, सौंदर्य, धन का कारक है।
  • इस नक्षत्र की दशा चंद्र की स्थिति अनुसार होती है।
  • यह सर्वाधिक दशा 20 वर्ष वाला नक्षत्र है।
  • पूर्वा फाल्गुनी में भग का व्रत और पूजन किया जाता है।
  • पूर्वाफल्गुनी नक्षत्र के देवता शुक्र को माना जाता है।
  • पलास के पेड को पूर्वा फल्गुनी नक्षत्र का प्रतीक माना जाता है और पूर्वा फल्गुनी नक्षत्र में जन्म लेने वाले लोग पलास वृक्ष की पूजा करते है।
  • इस नक्षत्र में जन्म लेने वाले लोग अपने घर के ख़ाली हिस्से में पलास के पेड को लगाते है।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख