महासागरीय निक्षेप  

रविन्द्र प्रसाद (वार्ता | योगदान) द्वारा परिवर्तित 17:48, 6 अप्रॅल 2014 का अवतरण (''''महासागरीय निक्षेप''' उन अवसादों को कहा जाता है, जो मह...' के साथ नया पन्ना बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)

महासागरीय निक्षेप उन अवसादों को कहा जाता है, जो महासागरीय नितल पर मिलते हैं। ये अवसाद अघन रूप में महासागर की तली पर जमे रहते हैं।

  • इन अवसादों की प्राप्ति चट्टानों पर निरन्तर क्रियाशील प्रक्रमों के कारण उनके अपक्षय व अपरदन से प्राप्त होने वाले अवसादों तथा महारागरीय जीवों तथा वनस्पतियों के अपशेषों से निर्मित एवं विकसित होती हैं।
  • प्राप्ति के आधार पर इन अपवादों को दो भागों में बांटा जा सकता है-
  1. स्थलजात निक्षेप
  2. सागरीय निक्षेप
स्थलजात निक्षेप

ये निक्षेप धरातल से नदियों, वायु, हिमानी आदि के अनाच्छादन एवं अपरदन द्वारा महासागरों में एकत्रित किये जाते हैं। बजरी, रेत, सिल्ट, मृतिका, पंक आदि प्रमुख स्थलजात निक्षेप हैं।

सागरीय निक्षेप

इसे मुख्यत: दो भागों में बांटा जा सकता है-

  1. जैविक निक्षेप
  2. अजैविक निक्षेप


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=महासागरीय_निक्षेप&oldid=477762" से लिया गया