"शनिवार व्रत" के अवतरणों में अंतर  

[अनिरीक्षित अवतरण][अनिरीक्षित अवतरण]
छो (Text replace - "उल्लखित" to "उल्लिखित")
छो (Text replace - "==टीका टिप्पणी और संदर्भ==" to "{{संदर्भ ग्रंथ}} ==टीका टिप्पणी और संदर्भ==")
 
पंक्ति 3: पंक्ति 3:
 
*श्रावण के चार शनिवारों के [[नैवेद्य]] हैं–[[चावल]] एवं [[उर्द]] एक साथ पकाया हुआ, [[पायस]], [[अम्बिली]] (चावल के आटे एवं मक्खन वाले [[दूध]] से बनी लप्सी) एवं पूरिका ([[गेहूँ]] की रोटी)।
 
*श्रावण के चार शनिवारों के [[नैवेद्य]] हैं–[[चावल]] एवं [[उर्द]] एक साथ पकाया हुआ, [[पायस]], [[अम्बिली]] (चावल के आटे एवं मक्खन वाले [[दूध]] से बनी लप्सी) एवं पूरिका ([[गेहूँ]] की रोटी)।
 
*स्मृतिकौस्तुभ<ref>स्मृतिकौस्तुभ 555-56</ref> में [[स्कन्द पुराण]] से उद्धृत शनैश्चर का स्तोत्र है।  
 
*स्मृतिकौस्तुभ<ref>स्मृतिकौस्तुभ 555-56</ref> में [[स्कन्द पुराण]] से उद्धृत शनैश्चर का स्तोत्र है।  
 +
{{संदर्भ ग्रंथ}}
 
==टीका टिप्पणी और संदर्भ==
 
==टीका टिप्पणी और संदर्भ==
 
<references/>
 
<references/>

16:18, 21 मार्च 2011 के समय का अवतरण

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. स्मृतिकौस्तुभ 555-56

संबंधित लेख

"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=शनिवार_व्रत&oldid=141736" से लिया गया