सतमान  

रविन्द्र प्रसाद (वार्ता | योगदान) द्वारा परिवर्तित 12:20, 25 मई 2017 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)

सतमान प्राचीन भारत की अर्थव्यवस्था में प्रारम्भिक सिक्कों का प्रकार था। यह उस समय का सबसे बड़ा सिक्का था, जो 180 ग्रेन वजन का चाँदी का बना होता था।[1]


इन्हें भी देखें: कर्षापण एवं निष्क


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. यूजीसी इतिहास, पृ. सं. 145

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=सतमान&oldid=592208" से लिया गया