सप्तमी निर्णय  

व्यवस्थापन (वार्ता | योगदान) द्वारा परिवर्तित 16:23, 21 मार्च 2011 का अवतरण (Text replace - "==टीका टिप्पणी और संदर्भ==" to "{{संदर्भ ग्रंथ}} ==टीका टिप्पणी और संदर्भ==")

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)

  • भारत में धार्मिक व्रतों का सर्वव्यापी प्रचार रहा है। यह हिन्दू धर्म ग्रंथों में उल्लिखित हिन्दू धर्म का एक व्रत संस्कार है।
  • जब सप्तमी षष्ठी एवं अष्टमी से विद्ध हो तो सप्तमी का व्रत षष्ठी से विद्ध सप्तमी पर होना चाहिए।
  • किन्तु यदि किसी कारण से षष्ठी से युक्त सप्तमी न मानी जाए तो अष्टमी से युक्त सप्तमी ग्रहण करनी चाहिए।[1]


टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. कालनिर्णय (192-194); तिथितत्त्व (35-36); पुरुषार्थचिन्तामणि (103-104)।

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=सप्तमी_निर्णय&oldid=141885" से लिया गया