समतापमण्डल  

आशा चौधरी (वार्ता | योगदान) द्वारा परिवर्तित 18:06, 2 फ़रवरी 2018 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)

समतापमण्डल (अंग्रेज़ी:Stratosphere) पृथ्वी के वायुमण्डल में क्षोभमण्डल के ऊपर दूसरी परत को कहते हैं।

  • समतापमण्डल क्षोभमण्डल के ऊपर औसत 50 कि.मी. की ऊंचाई पर पाया जाता है। इसकी मोटाई भूमध्य रेखा पर कम तथा ध्रुवों पर अधिक होती हैं।
  • इस मण्डल में 20 से 35 कि.मी. के बीच ओजोन परत की सघनता काफ़ी अधिक है, इसलिए इस क्षेत्र को 'ओजोन मंडल' भी कहा जाता है।
  • ओज़ोन गैस सौर्यिक विकिरण की हानिकारक पराबैंगनी किरणों को सोख लेती है और उन्हें भूतल तक नहीं पहुंचने देती है तथा पृथ्वी को अधिक गर्म होने से बचाती हैं।
  • समतापमण्डल में तापमान स्थिर रहता है तथा इसके बाद ऊंचाई के साथ बढ़ता जाता है। यह मण्डल बादल तथा मौसम संबंधी घटनाओं से मुक्त रहता है।
  • इस मण्डल के निचले भाग में जेट वायुयान के उड़ान भरने के लिए आदर्श दशाएं हैं।
  • इसकी ऊपरी सीमा को 'स्ट्रैटोपाज' कहते हैं।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=समतापमण्डल&oldid=619129" से लिया गया