गुरु गुड़ रहा

भारत डिस्कवरी प्रस्तुति
गोविन्द राम (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 14:46, 2 जून 2011 का अवतरण (श्रेणी:नया पन्ना; Adding category Category:साहित्य कोश (को हटा दिया गया हैं।))
(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ:भ्रमण, खोजें
Icon-edit.gif इस लेख का पुनरीक्षण एवं सम्पादन होना आवश्यक है। आप इसमें सहायता कर सकते हैं। "सुझाव"

गुरु गुड़ रहा, चेला शक्कर हो गया

  • यह लोकोक्ति एक प्रचलित कहावत है।
  • इसका अर्थ- छोटे–बड़ों से आगे बढ़ जाते हैं।


टीका टिप्पणी और संदर्भ