अधोनी मैसूर  

  • हिंदूकाल के दुर्ग के लिए यह स्थान उल्लेखनीय है।
  • इस दुर्ग पर 1347 ई. में अलाउद्दीन खिलजी और 1375 ई0 में मुजाहिदशाह बहमनी ने अधिकार कर लिया था।
  • तत्पश्चात् कुछ समय तक अधोनी का क़िला विजयनगर राज्य के अंतर्गत रहा किंतु तालीकोट के युद्ध (1565 ई0) के पश्चात् यहाँ बीलजापुर रियासत का अधिकार हो गया।
  • अधोनी में 13वीं शती का पत्थर-चूने का बना एक मंदिर भी है जिसकी दीवारों पर मूर्तियां उकेरी हुई हैं।
  • एक काले पत्थर पर देवनागरी लिपि में एक अभिलेख खुदा हुआ है।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  • ऐतिहासिक स्थानावली | पृष्ठ संख्या= 19| विजयेन्द्र कुमार माथुर | वैज्ञानिक तथा तकनीकी शब्दावली आयोग | मानव संसाधन विकास मंत्रालय, भारत सरकार

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=अधोनी_मैसूर&oldid=627204" से लिया गया