एक्स्प्रेशन त्रुटि: अनपेक्षित उद्गार चिन्ह "१"।

अपराजिता

भारत डिस्कवरी प्रस्तुति
यहाँ जाएँ:भ्रमण, खोजें

अपराजिता देवी दुर्गा का पर्यायवाची नाम है, जो उनके रौद्र रूप का द्योतक है। इसी रूप से उन्होंने अनेक राक्षसों का संहार किया था।

  • 'देवीपुराणा' तथा 'चंडीपाठ' में दुर्गा स्वरूप का विस्तृत वर्णन मिलता है।
  • तंत्र सहित्य में अपराजिता की पूजा का विधान है।
  • इसके अतिरिक्त अपराजिता नाम की विद्या का कालिदास ने 'विक्रमोर्वशीय' में उल्लेख किया है।[1]


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. हिन्दी विश्वकोश, खण्ड 1 |प्रकाशक: नागरी प्रचारिणी सभा, वाराणसी |संकलन: भारत डिस्कवरी पुस्तकालय |पृष्ठ संख्या: 137 |

संबंधित लेख