अभिहितान्वयवाद  

अभिहितान्वयवाद कुमारिल मीमांसा और अन्य न्याय दर्शन में स्वीकार किया गया है कि शब्द का अपना स्वतंत्र अर्थ होता है। एक शब्द स्वार्थबोधन के लिए दूसरे शब्द की अपेक्षा नहीं करता। वाक्य स्वतंत्र अर्थबोधन करनेवाले शब्दों का समूह होता है। स्वार्थबोधन करने के बाद शब्द वाक्य में अन्वित होते हैं। यह सिद्धांत अन्विताभिधानवाद का ठीक उलटा है। इसके अनुसार भाषा की इकाई शब्द ही है, वाक्य इकाइयों का समुदाय मात्र है। प्रकृति और प्रत्यय का पृथक्‌ अर्थ होता है। चूँकि प्रकृति व्यवहार में प्रचलित है अत: वह स्वतंत्र रूप से अर्थबोधन करती है। प्रत्यय लोकप्रचलित नहीं है अत: उससे लोक में स्वतंत्र अर्थ है जैसा प्रकृति का। प्रकृत्यर्थ और प्रत्ययार्थ का पारस्परिक संबंध विशेषण-विशेष्य-भाव के रूप में होता है और इसको प्रकारतावाद कहते हैं।[1]




पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. हिन्दी विश्वकोश, खण्ड 1 |प्रकाशक: नागरी प्रचारिणी सभा, वाराणसी |संकलन: भारत डिस्कवरी पुस्तकालय |पृष्ठ संख्या: 186 |

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=अभिहितान्वयवाद&oldid=629668" से लिया गया