आसरैत  

आसरैत का अर्थ है- किसी पर आश्रित होना।

  • जैसे- पर कुछ भी हो, वह रग्घू की आसरैत बनकर घर में न रहेगी [1]


टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. मानसरोवर भाग-1 'अलग्योझा' प्रेमचन्द की कहानी से

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=आसरैत&oldid=259792" से लिया गया