आस्य  

शब्द संदर्भ
हिन्दी मुख, चेहरा, मुख का वह भाग जिससे वर्णों का उच्चारण किया जाता है, तालु आदि।
-व्याकरण    [संस्कृतभाषा धातु अस् +ण्यत्], विशेषण- मुख सम्बन्धी।
-उदाहरण   जैसे- आस्य की पवित्रता
-विशेष    मुख के उस भाग को आस्य कहते हैं, जिससे वर्णोंच्चारण किया जाता है।
-विलोम   
-पर्यायवाची    मुख मंडल, आँख नाक, आगा, आनन, आस्य, चेहरा, मोहरा, चौखटा, नक़ूश, नाक, नक़्श, नोक पलक, मस्तक ठोडी भाग, मुँह, मुख, मुखड़ा, मुखाकृति, मूरत, वदन, सूरत
संस्कृत आस्यम् [अस्यते ग्रासोऽत्र-अस्+ण्यत्], मुँह, जबड़ा-[1], चेहरा[2], मुँह[3] आदि।
अन्य ग्रंथ
संबंधित शब्द
संबंधित लेख

अन्य शब्दों के अर्थ के लिए देखें शब्द संदर्भ कोश

टीका टिप्पणी व संदर्भ

  1. आस्यकुहरे विवृतास्यः
  2. आस्यकमलम
  3. विवर-ब्रणास्यम्, अङ्कास्यम्

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=आस्य&oldid=123516" से लिया गया