एषणा  

शब्द संदर्भ
हिन्दी कामना, इच्छा चाह, अभिलाषा, याचना।
-व्याकरण    स्त्रीलिंग
-उदाहरण  

कर्म-चक्र सा घूम रहा है, यह गोलक बन नियति प्रेरणा।
सबके पीछे लगी हुई है, कोई व्याकुल नयी एषणा[1]

-विशेष    मानव- एषणाओं में तीन प्रमुख हैं- पुत्रैषणा, वित्तैषणा, लोकैषणा।
-विलोम   
-पर्यायवाची    अनुकांक्षा, अभिप्राय, ईहा, नीयत, मनीषा, मुराद, राग, लाषा।
संस्कृत इष्+णिच्+युच्+टाप्
अन्य ग्रंथ
संबंधित शब्द
संबंधित लेख

अन्य शब्दों के अर्थ के लिए देखें शब्द संदर्भ कोश

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. जय शंकर प्रसाद (कामायनी, पृष्ठ 266

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=एषणा&oldid=188452" से लिया गया