कनखी  

शब्द संदर्भ
हिन्दी तिरछी दृष्टि से देखने की स्थिति, देखने का वह ढंग मुद्रा या स्थिति जिसमें पुतली को कान की ओर अर्थात् कोने या सिरे पर ले जाकर देखा जाता है, दूसरों की दृष्टि बचाकर आँख की कोर से देखना, उक्त प्रकार से देखते हुए किया जाने वाला संकेत।
-व्याकरण    स्त्रीलिंग
-उदाहरण   चितबनि बसति कनखियनु अँखियन बीच[1]
-विशेष   
-विलोम   
-पर्यायवाची    अक्षि, विक्षेप, कटाक्ष, चितवन, चोर, विपेक्ष
संस्कृत
अन्य ग्रंथ
संबंधित शब्द
संबंधित लेख

अन्य शब्दों के अर्थ के लिए देखें शब्द संदर्भ कोश

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. तुलसी (बरवै. 30

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=कनखी&oldid=613372" से लिया गया