कुमारीगिरी  

कुमारीगिरि, उदयगिरि, उड़ीसा का एक भाग है, जिसका उल्लेख कलिंग नरेश खारवेल के प्रसिद्ध अभिलेख में है। इस स्थान को 'कुमारी पर्वत' के नाम से भी जानते हैं। कुमारी नदी सम्भवत: इसी स्थान से निकलती है।[1]

  • खारवेल ने अपने शासन के 13वें वर्ष में इस स्थान पर, जो अर्हतों के निवास स्थान के निकट था, कुछ स्तंभों का निर्माण करवाया था।
  • कुमारीगिरि भुवनेश्वर से 7 मील पश्चिम में स्थित है।
  • जैनों के प्रचीन तीर्थ स्थल के रूप में कुमारीगिरी प्रसिद्ध है।
  • यह माना जाता है कि तीर्थंकर महावीर कुछ दिन यहाँ रहे थे।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. ऐतिहासिक स्थानावली |लेखक: विजयेन्द्र कुमार माथुर |प्रकाशक: वैज्ञानिक तथा तकनीकी शब्दावली आयोग, मानव संसाधन विकास मंत्रालय, भारत सरकार |पृष्ठ संख्या: 204 |

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=कुमारीगिरी&oldid=343938" से लिया गया