कोटदीजी (सिंध प्रांत)  

कोट दीजी क़िला, पाकिस्तान

कोटदीजी सिंध प्रांत आधुनिक पाकिस्तान के 'खैरपुर' नामक स्थान पर स्थित प्राचीन सैंधव सभ्यता का एक केन्द्र था।

  • सर्वप्रथम इसकी खोज 'धुर्ये' ने 1935 ई. में की ।
  • नियमित खुदाई 1953 ई. में फज़ल अहमद ख़ान द्वारा सम्पन्न करायी गयी।
  • इस की खुदाई 20 वीं शताब्दी के आरंभिक दशकों में हुई और आरंभिक हड़प्पा काल के अवशेषों के रूप में इसकी पहचान हुई।
  • इस बस्ती के चारों तरफ़ पत्थर से बनी दीवार थी, जो लगभग 3000ई. पू. की प्रतीत होती है।
  • कोटदीजी में एक आदि-हड़प्पा स्तर मिला है। इस स्तर के मृद् भाण्डों में मोर, मृग, मत्स्य[शल्क और गेंदों की जुड़ी हुई आकृतियों का अपरिष्कृत चित्रण हुआ है।
  • सम्भवतः यहाँ पर पत्थरों का उपयोग घर बनाने में किया जाता था, इससे यह अनुमान लगाया जाता है कि पाषाणयुगीन सभ्यता का अंत यही पर हुआ था।
  • यहाँ से उत्खनन में कई ऐतिहासिक महत्त्व की वस्तुएँ प्राप्त हुई हैं।
  • कोटदीजी के विस्तृत स्तर में कांस्य की चपटे फलक वाली कुल्हाड़ी, तीराग्र ,छेनी, अंगूठी व दोहरी एवं इकहरी चूड़ियाँ आदि वस्तुएँ मिली हैं।
  • इसके अतिरिक्त यहाँ से मृत्पिण्ड भी मिले हैं।
  • यह उल्लेखनीय है कि कोटदीजी के इन स्तरों में जो संस्कृति मिलती है, वह थोड़े बहुत परिवर्तन के साथ सैंधव सभ्यता में चलती रही|


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=कोटदीजी_(सिंध_प्रांत)&oldid=315668" से लिया गया