कोशिका विभाजन  

कोशिका विभाजन से तात्पर्य है कि "जिस क्रिया द्वारा एक कोशिका विभाजित होकर दो या दो से अधिक कोशिकाएँ उत्पन्न करती हैं, उसे कोशिका विभाजन[1] कहते हैं। कोशिका विभाजन की प्रक्रिया कई प्रकार की होती है। प्रोकैरिओटिक कोशिकाओं का विभाजन यूकैरिओटिक कोशिकाओं से भिन्न होता है।

  • कोशिका विभाजन वस्तुतः कोशिका चक्र[2] का एक चरण है। विभाजित होने वाली कोशिका मातृ कोशिका एवं विभाजन के फलस्वरूप बनने वाली कोशिकाएँ पुत्री कोशिका कहलाती हैं।
  • इस विभाजन द्वारा ही जीवों के शरीर की वृद्धि और विकास होता है। इस क्रिया के फलस्वरूप ही घाव भरते हैं।
  • प्रजनन एवं क्रम विकास के लिए भी कोशिका विभाजन की क्रिया आवश्यक है।
  • लैंगिक प्रजनन करने वाला प्रत्येक प्राणी अपना जीवन कोशिका अवस्था से ही आरंभ करता है।
  • कोशिका अंडा होती है और इसके निरंतर विभाजन से बहुत-सी कोशिकाएँ उत्पन्न हो जाती हैं।
  • विभाजन की यह क्रिया उस समय तक होती रहती है, जब तक प्राणी भली-भाँति विकसित नहीं हो जाता।
  • इस प्रक्रिया में कोशिका का जिनोम[3] अपरिवर्तित रहता है। इसलिये विभाजन होने के पूर्व गुणसूत्रों[4] पर स्थित 'सूचना' प्रतिकृत[5] हो जानी चाहिये और तत्पश्चात् इन जीनोमों को कोशिकाओं के बीच 'सफाई से' बांटना चाहिये।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. Cell division
  2. cell cycle
  3. genome
  4. chromosomes
  5. replicate

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=कोशिका_विभाजन&oldid=596009" से लिया गया