क्षिप्र  

शब्द संदर्भ
हिन्दी शीघ्रगामी, तेज़, तुरंत, जल्दी, तत्काल, अस्थिर, अँगूठे और तर्जनी के बीच का स्थान जो वैद्यक में मर्मस्थल माना गया है।
-व्याकरण    धातु, विशेषण, पुल्लिंग, क्रिया विशेषण।
-उदाहरण  

क्षिप्र गति अलग है,
क्षिप्र तो वह है,
जो सही क्षण में सजग है।- भवानी प्रसाद मिश्र

-विशेष   
-विलोम   
-पर्यायवाची    अम्लान, उत्साहपूर्ण, ऊर्जस्वी, ओजस्वी, चटक, स्फूर्तिमान, सतेज, चेतन, चुस्त आदि।
संस्कृत क्षिप् (प्रेरणा)+रक (मध्यमावस्था- क्षपीयम्, उत्तमावस्था- क्षेपिष्ठ) सजीव, आशुगामी।
अन्य ग्रंथ
संबंधित शब्द क्षिप्रकारी, क्षिप्रहस्त, क्षिप्रोच्चारिता
संबंधित लेख

अन्य शब्दों के अर्थ के लिए देखें शब्द संदर्भ कोश

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=क्षिप्र&oldid=117539" से लिया गया