जय  

शब्द संदर्भ
हिन्दी विजय, युद्ध में जय प्राप्त हुई, जीत, संयम, संग्रह, जैसे इन्द्रिय जय, इन्द्र का पुत्र जयन्त, लाभ, बृहस्पति- युग के साठ संवत्सरों में से एक, एक वृक्ष, अरणी, अग्निमन्थ, जयन्ती, विष्णु का एक द्वारपाल, जीत।
-व्याकरण    पुल्लिंग
-उदाहरण   अयोध्या की प्रजा रामजी की जय जयकार करती थी।
-विशेष    परस्पर मिलने पर 'जय राम जी', 'जय श्री राम', 'जय गोपाल' या 'जय जिनेन्द्र' आदि कहना सांस्कृतिक धार्मिक शिष्टाचार में 'नमस्ते/प्रणाम' के समान प्रचलित है।
-विलोम    पराजय
-पर्यायवाची    ग़लबा, ज़फ़र, जयलक्ष्मी, जयश्री, जिति, जीत, जैत्र, फ़तह, लाभ, विजय, सफलता, सर, सिद्धि।
संस्कृत [जि+अच्] जीत, विजयोत्सव, विजय, सफलता, जीतना (युद्ध में खेल में या मुक़दमे में), संयम, दमन, जीतना- जैसा कि 'इन्द्रियजय' में, सूर्य का नाम, इन्द्र का पुत्र जयन्त, पाण्डव राजकुमार युधिष्ठर, विष्णु का सेवक, अर्जुन का विशेषण, दुर्गा, दुर्गा का सेवक, एक प्रकार का झण्डा।
अन्य ग्रंथ
संबंधित शब्द
संबंधित लेख

अन्य शब्दों के अर्थ के लिए देखें शब्द संदर्भ कोश

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=जय&oldid=117894" से लिया गया