त.jpg
विवरण देवनागरी वर्णमाला में तवर्ग का पहला व्यंजन है।
भाषाविज्ञान की दृष्टि से यह दन्त्य, स्पर्श, अघोष और अल्पप्राण है। इसका महाप्राण रूप 'थ' है।
व्याकरण पुल्लिंग- ध्वनि, रव, चंद्रमंडल, सूर्यमंडल, वृत्त, शून्य, मूर्ति, देव, शिव, महादेव।
विशेष 'त्' का दित्व होने पर 'त्त' रूप लिखा जाता है। इसका उचित ज्ञान न होने से महत्+त्व = 'महत्त्व' जैसे स्थलों पर 'महत्व' लिखने की भूल बहुत प्रचलित है। सत्त्व (सत्‌ + त्व) और गुरुत्व (गुरु +त्व) में क्रमश: त का द्वित्व क्यों नहीं है, इस पर ध्यान देना चाहिए।
संबंधित लेख , , ,
अन्य जानकारी संस्कृत के संधि-नियमों के अनुसार तत्सम शब्दों में अनेक स्थानों पर तकार-सम्बन्धी कुछ परिवर्तन देखे जाते हैं। जैसे- त्‌ का ल्‌ में परिवर्तन (तत्‌ + लीन = तल्लीन)

देवनागरी वर्णमाला में तवर्ग का पहला व्यंजन है। भाषाविज्ञान की दृष्टि से यह दन्त्य, स्पर्श, अघोष और अल्पप्राण है। इसका महाप्राण रूप 'थ' है।

विशेष-
  • 'त' वर्ण का अनेक व्यंजनों से संयोग होता है। त से पहले आकर मिलने वाले व्यंजनों में क (उक्त), क़ (वक़्त), ख़ (सख़्त), त (सत्ता), न (शांत), प (शप्त), ब (ज़ब्त), म (स्मित), र (आर्त), श (किश्ती), और स (अस्त), प्रमुख हैं।
  • 'त' से बाद में रहकर मिलने वाले व्यंजनों में य (सत्य), र (सत्र) और स (कुत्सा) प्रमुख हैं।
  • र् का त से संयोग होने पर 'र्त' रूप बनता है। जैसे- आर्त, कर्ता, शर्त और त् का र से संयोग होने पर 'त्र' रूप बनता है जिसे आजकल 'त्र' भी लिखा जाता है। जैसे- मित्र।
  • 'त्' का दित्व होने पर 'त्त' रूप लिखा जाता है। इसका उचित ज्ञान न होने से महत्+त्व = 'महत्त्व' जैसे स्थलों पर 'महत्व' लिखने की भूल बहुत प्रचलित है। सत्त्व (सत्‌ + त्व) और गुरुत्व (गुरु +त्व) में क्रमश: त का द्वित्व क्यों नहीं है, इस पर ध्यान देना चाहिए।
  • संस्कृत के अनेक तकारांत (अंत में त्‌ ध्वनि वाले) शब्दों को हिंदी में 'त्‌' के स्थान पर 'त' (अकरांत) के प्रयोग के साथ लिखना प्रचलित है। जैसे -विद्युत् - विद्युत।
  • संस्कृत के संधि-नियमों के अनुसार तत्सम शब्दों में अनेक स्थानों पर तकार-सम्बन्धी कुछ परिवर्तन देखे जाते हैं। कुछ प्रमुख परिवर्तन इस प्रकार है-
    • त्‌ का च्‌ में परिवर्तन (सत्‌ + चित्‌ = सच्चित्‌)।
    • त्‌ का ज्‌ में परिवर्तन (सत्‌ + जन = सज्जन)।
    • त्‌ का द्‌ में परिवर्तन (जगत्‌ + बंधु = जगद्‌बंधु)।
    • त्‌ का न्‌ में परिवर्तन (जगत्‌ + नाथ = जगन्नाथ)।
    • त्‌ का ल्‌ में परिवर्तन (तत्‌ + लीन = तल्लीन)।
    • त्‌ के परे श्‌ हो तो दोनों का च्छ्‌ में परिवर्तन (सत्‌ + शास्त्र = सच्छास्त्र)।
    • त्‌ के परे ह् हो तो दोनों का द्‌ध् में परिवर्तन (उत्‌ + हार = उद्‌धार)।
    • द्‌ का त्‌ में परिवर्तन (उद्‌ + कीर्ण = उत्कीर्ण)।
    • त का विसर्गयुक्त रूप 'त:' एक प्रत्यय के रूप में अनेक तत्सम शब्दों में प्रयुक्त होता है। जैस- सर्वत:, कार्यत:, विशेषत:।
  • [ संस्कृत (धातु) तक् = ड ] पुल्लिंग- रत्न, योद्धा, अमृत, गर्भाशय, शठ, दुष्ट, चोर, पूँछ, दुम, छाती, बर्बर या म्लेच्छ, नाव।[1]

त की बारहखड़ी

ता ति ती तु तू ते तै तो तौ तं तः

त अक्षर वाले शब्द



पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. पुस्तक- हिन्दी शब्द कोश खण्ड-1 | पृष्ठ संख्या- 1114

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=त&oldid=579533" से लिया गया