तिब्बती शरणार्थी शिविर  

Icon-edit.gif इस लेख का पुनरीक्षण एवं सम्पादन होना आवश्यक है। आप इसमें सहायता कर सकते हैं। "सुझाव"
तिब्बती शरणार्थी शिविर
  • तिब्बती शरणार्थी शिविर (तिब्बतियन रिफ़्यूजी कैंप) पश्चिम बंगाल राज्य के दार्जिलिंग शहर में स्थित है।
  • तिब्बती शरणार्थी शिविर की स्‍थापना 1959 ई. में की गई थी। इससे एक वर्ष पहले 1958 ईं में दलाई लामा ने भारत से शरण मांगा था।
  • तिब्बती शरणार्थी शिविर में 13वें दलाई लामा[1] ने 1910 से 1912 तक अपना निर्वासन का समय व्‍यतीत किया था।
  • 13वें दलाई लामा जिस भवन में रहते थे वह भवन आज भग्‍नावस्‍था में है।

तिब्‍बती परिवार

आज यह शरणार्थी शिविर 650 तिब्‍बती परिवारों का आश्रय स्‍थल है। ये तिब्‍बती लोग यहाँ विभिन्‍न प्रकार के सामान बेचते हैं। इन सामानों में कारपेट, ऊनी कपड़े, लकड़ी की कलाकृतियाँ, धातु के बने खिलौन शामिल हैं। लेकिन अगर आप इस शरणार्थी शिविर घूमने का पूरा आनन्‍द लेना चाहते हैं तो इन सामानों को बनाने की कार्यशाला को जरुर देखें। यह कार्यशाला पर्यटकों के लिए खुली रहती है।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

वीथिका


टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. वर्तमान में 14 वें दलाई लामा हैं

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=तिब्बती_शरणार्थी_शिविर&oldid=237189" से लिया गया